कुडनकुलम बिजलीघर में तीसरे और चौथे यूनिटों का निर्माण 2017 में शुरू होगा

भारत के कुडनकुलम एटमी बिजलीघर में तीसरे और चौथे यूनिटों के निर्माण का काम सन् 2017 की पहली तिमाही में शुरू कर दिया जाएगा।

रूस के परमाणु संगठन ’रोसएटम’ के उपमहानिदेशक और अन्तरराष्ट्रीय गतिविधियों सम्बन्धी निदेशक निकलाय स्पास्की ने पत्रकारों को बताया कि भारत के कुडनकुलम एटमी बिजलीघर में तीसरे और चौथे यूनिटों के निर्माण का काम सन् 2017 की पहली तिमाही में शुरू कर दिया जाएगा। उल्लेखनीय है कि कुडनुकलम एटमी बिजलीघर का निर्माण रूस की सहायता से किया जा रहा है। 

विगत 15 अक्तूबर को रूस के राष्ट्रपति व्लदीमिर पूतिन और भारत के प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी ने एक विडियो कांफ़्रेंस के माध्यम से कुडनकुलम एटमी बिजलीघर में तीसरी और चौथी इकाइयों की आधारशिला रखी थी।

तमिलनाडु राज्य में इस बिजलीघर का निर्माण रूस और भारत के बीच 20 नवम्बर 1988 को हुए एक समझौते और 21 जून 1998 को किए गए एक अतिरिक्त समझौते के आधार पर किया जा रहा है।

कुडनकुलम एटमी बिजलीघर की पहली इकाई ने सन् 2013 में बिजली बनाने का काम शुरू कर दिया था और इस साल की गर्मियों में पहली इकाई पूरी तरह से भारत को सौंप दी गई। बिजलीघर की दूसरी इकाई को विगत अगस्त के महीने में राष्ट्रीय विद्युत वितरण व्यवस्था से जोड़ा गया। आजकल कुडनकुलम में पाँचवे और छठे यूनिट का निर्माण करने से जुड़ा अनुबन्ध तैयार किया जा रहा है।

+
फ़ेसबुक पर पसंद करें