सीरिया के लिए रवाना हुआ रूसी विमान काले सागर में गिरा

सीरिया के लिए रवाना हुआ एक रूसी सैन्य-यात्री विमान टीयू-154 हवाई-अड्डे से रवाना होते ही काले सागर में जा गिरा। इस विमान में सवार सभी लोग मारे गए हैं। इस दुर्घटना की जाँच शुरू कर दी गई है। जाँच समिति तीन नज़रियों से दुर्घटना की जाँच करेगी — पायलटों की ग़लती, कोई तकनीकी टूट-फूट और आतंकवादी हमला।
Tu-154 search operation
विमान की सात सवारियों के शव अब तक बचावकर्मियों को मिल चुके हैं। स्रोत :Nina Zotina/RIA Novosti

25 दिसम्बर की सुबह रूस के रक्षा मन्त्रालय का एक यात्री-विमान टीयू-154 हवाई-अड्डे से उड़ान भरते ही दुर्घटनाग्रस्त हो गया और समुद्र-तट से डेढ़ किलोमीटर दूर काले सागर में जा गिरा। इस विमान ने सीरिया के लिए उड़ान भरी थी। 

इस विमान में सवार यात्रियों के बारे में मिली जानकारी के अनुसार, विमान में सवार 92 यात्रियों में से 68 यात्री अलिक्सान्द्रफ़ सैनिक बैण्ड के सदस्य थे और संगीतकार थे। विमान में 9 टेलीविजन-पत्रकार और आठ चालक-दल के सदस्य भी सवार थे। विमान की सात सवारियों के शव अब तक बचावकर्मियों को मिल चुके हैं।

रूस के राष्ट्रपति व्लदीमिर पूतिन ने रूस के प्रधानमन्त्री दिमित्री मिदवेदफ़ को इस दुर्घटना की जाँच करने के लिए एक सरकारी आयोग बनाने की ज़िम्मेदारी सौंप दी है और उनसे कहा है कि वे जाँच की पूरी प्रक्रिया पर निजी रूप से नज़र रखें।

रूसी मीडिया में आ रही ख़बरों के अनुसार, विमान हवाई-अड्डे से उड़ा ही था कि वह गिर पड़ा। लेकिन चालक-दल ने उससे पहले आपात स्थिति का कोई संकेत नहीं दिया।

इस समय रूसी आपदा राहत विभाग के सदस्य और रूसी जाँच समिति के सदस्य दुर्घटना स्थल पर काम कर रहे हैं। जाँच समिति ने उड़ान से पहले जारी किए गए सभी दस्तावेज़ जब्त कर लिए हैं और उड़ान के लिए ज़िम्मेदार अधिकारियों से पूछताछ शुरू कर दी है। उड़ान से पहले विमान की तकनीकी जाँच करने वाले इंजीनियरों और तकनीकी कर्मचारियों से भी पूछताछ की जा रही है।
विशेषज्ञों के अनुसार, दुर्घटना के तीन कारण हो सकते हैं — पायलटों की ग़लती, कोई तकनीकी टूट-फूट और आतंकवादी हमला।

+
फ़ेसबुक पर पसंद करें