सीरिया में सरकार और विद्रोहियों के बीच युद्धविराम लागू

30 दिसंबर 2016 रूस-भारत संवाद
सीरिया में बशर असद की सरकार और सीरियाई विद्रोहियों के बीच युद्धविराम लागू करने पर सहमति हो गई है। रूस, तुर्की और ईरान ने दो पक्षों के बीच युद्धविराम करवाने में मध्यस्थता की। 30 व 31 दिसम्बर की आधी रात को बारह बजे से यह युद्धविराम लागू हो जाएगा। दोनों पक्ष आपस में बातचीत करने पर सहमत हो गए हैं।
Russian military presence in Syria
29 दिसम्बर को रूस के राष्ट्रपति व्लदीमिर पूतिन ने इस युद्धविराम की घोषणा की। स्रोत :AP

29 दिसम्बर को सीरियाई गृहयुद्ध के इस दौर में हुए इस युद्धविराम के बारे में बोलते हुए रूस के राष्ट्रपति व्लदीमिर पूतिन ने बताया कि रूस और तुर्की दोनों सीरियाई पक्षों के लिए गारण्टी देने वाले मध्यस्थ देशों की भूमिका निभा रहे हैं। यह युद्धविराम 30 दिसम्बर की आधी रात को बारह बजे लागू हो गया।

रूस के रक्षा मन्त्री सिर्गेय शायगू ने बताया कि 60 हज़ार विद्रोहियों वाले दस्तों ने इस युद्धविराम में भाग लेने पर अपनी सहमति दी है। जो विद्रोही इस युद्धविराम में शामिल नहीं होंगे उन्हें आतंकवादी घोषित कर दिया जाएगा, बाक़ी सभी विद्रोहियों के साथ सीरिया की सरकार बातचीत करेगी।

ईरान ने भी दो पक्षों के बीच हुई इस सहमति का समर्थन किया है। रूस के राष्ट्रपति व्लदीमिर पूतिन ने बताया कि सीरिया में शान्ति की स्थापना करने के लिए रूस, तुर्की और ईरान ने भारी परिश्रम किया है। इस सिलसिले में विगत 20 दिसम्बर को तीन देशों के रक्षा मन्त्रियों और विदेश मन्त्रियों ने मास्को में भी मुलाक़ात की थी। आगामी जनवरी महीने के उत्तरार्ध में कज़ाख़स्तान की राजधानी अस्ताना में सीरिया में शान्ति की स्थापना करने के सवाल पर वार्ता शुरू होगी। अस्ताना वार्ताओं के परिणामों के आधार पर आगामी 8 फ़रवरी को सँयुक्त राष्ट्र के नेतृत्व में जिनेवा में बातचीत की जाएगी।

+
फ़ेसबुक पर पसंद करें