ट्रम्प के बारे में गुप्त विडियो की बात करने वाले वेश्या से भी नीच हैं — पूतिन

रूस के राष्ट्रपति व्लदीमिर पूतिन ने कहा कि अमरीका के नए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के बारे में किसी गुप्त विडियो की बातें करने वाले लोग ’किसी वेश्या से भी नीच हैं’।
Putin Federal assembley
रूस के राष्ट्रपति व्लदीमिर पूतिन। स्रोत :Mikhail Klimentiev/RIA Novosti

रूस के राष्ट्रपति व्लदीमिर पूतिन ने कहा कि अमरीका के नए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के बारे में किसी गुप्त विडियो की बातें करने वाले लोग ’किसी वेश्या से भी नीच हैं’। 

मल्दाविया के राष्ट्रपति ईगर ददोन के साथ एक पत्रकार सम्मेलन को सम्बोधित करने के बाद व्लदीमिर पूतिन ने यह बात कही।

व्लदीमिर पूतिन ने कहा — मैं कहना चाहता हूँ कि वेश्यावृत्ति सामाजिक दृष्टि से एक गलीज़ काम माना जाता है। यह समाज की बदसूरती का नमूना है। युवतियों को यह काम इसलिए करना पड़ता है क्योंकि वे किसी दूसरे सभ्य ढंग से अपना जीवन नहीं चला सकती हैं। मुख्य तौर पर समाज और सरकार ही इस प्रवृत्ति के लिए दोषी होते हैं। लेकिन वे लोग जो इस तरह के विडियो बनवाते और बनाते हैं, जो अमरीका ने नए राष्ट्रपति के ख़िलाफ़ प्रसारित किया जा रहा है, और अपने राजनैतिक विरोधियों के ख़िलाफ़ ऐसी चीज़ों का इस्तेमाल करते हैं, वे तो वेश्या से भी ज़्यादा नीच और गिरे हुए होते हैं। ऐसे लोगों पतन की कोई नैतिक सीमा नहीं होती।

रूस के राष्ट्रपति ने कहा — इस तरह के लोग पहले भी थे और आज भी हैं। यह कोई नई बात नहीं है।

उन्होंने कहा — लेकिन इस तरीके का इस्तेमाल अमरीका के नए राष्ट्रपति के ख़िलाफ़ भी किया जा रहा है, यह बात सचमुच आश्चर्यजनक है। ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था। इससे यह पता चलता है कि अमरीका सहित पश्चिमी देशों में राजनीतिक नेताओं का स्तर काफ़ी गिर गया है।

व्लदीमिर पूतिन ने कहा — लेकिन मुझे उम्मीद है कि स्वस्थ विचारों की जीत होगी। अमरीका और उसके यूरोपीय सहयोगियों के बारे में मुझे बस, इतना ही कहना है क्योंकि अमरीका की सरकार ने जाने से पहले यूरोप के बहुत से राजनीतिक नेताओं को अपने घरेलू अमरीकी संघर्ष में शामिल कर लिया और आज जो भी समस्याएँ सामने आ रही हैं, वे इसी काम के परिणामस्वरूप पैदा हुई हैं।

उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले अमरीकी मीडिया ने गुप्त दस्तावेज़ों के हवाले से यह ख़बर दी थी कि रूसी ख़ुफ़िया एजेंसियों के पास डोनाल्ड ट्रम्प का एक गुप्त विडियो है। लेकिन नए राष्ट्रपति ने बताया कि अमरीकी ख़ुफ़िया एजेंसियों ने इस सूचना को झूठी करार दिया है।

+
फ़ेसबुक पर पसंद करें