भारत-रूस रेलमार्ग का बचा हुआ हिस्सा मार्च तक पूरा हो जाएगा

ईरान और अज़रबैजान की सीमा पर स्थित शहरों को रेलमार्ग के ज़रिए मार्च तक आपस में जोड़ दिया जाएगा।
Saeed Mohammadzadeh and Javid Gurbanov
7 फ़रवरी को बाकू में ईरान और अज़रबैजान के बीच वार्ता हुई। स्रोत :ady.az

ईरान के सड़क परिवहन तथा शहरी विकास उपमंत्री सईद मुहम्मदज़ादे ने बताया है कि उत्तर-दक्षिण अन्तरराष्ट्रीय परिवहन गलियारे यानी भारत से रूस तक जाने वाले नए रेलमार्ग का अभी तक अधबना हिस्सा भी आगामी मार्च तक बनकर पूरा हो जाएगा। इन दिनों उसका निर्माण किया जा रहा है।

अज़रबैजान रेलवे के प्रमुख जवीद गुरबानफ़ से बातचीत करते हुए मुहम्मदज़ादे ने कहा कि इस रेलमार्ग के बनने से अज़रबैजानी बन्दरगाह अस्तारा और ईरानी शहर अस्तारा के बीच सीधा सम्पर्क कायम हो जाएगा।

उन्होंने बताया कि ईरान अस्तारा में रेलवे स्टेशन और जहाज़ों पर मालों की लदाई-उतराई के लिए एक टर्मिनल का निर्माण भी कर रहा है।

उत्तर-दक्षिण अन्तरराष्ट्रीय परिवहन गलियारे के पूरी तरह से शुरू होने के बाद भारत तथा दक्षिण पूर्व एशिया के देश यूरोप से सीधे जुड़ जाएँगे। इसके अलावा वह नया रेलमार्ग ईरान, अज़रबैजान और रूस को भी आपस में जोड़ देगा।

+
फ़ेसबुक पर पसंद करें