चन्द्रायन-2 कार्यक्रम में भारत रूसी आइसाटोपों का इस्तेमाल करेगा

रूस द्वारा सप्लाई किए जाने वाले सीएम-244 स्रोतों की मदद से चन्द्रमा की सतह का विश्लेषण किया जाएगा।
What Russia needs are clear goals – it could either be a colony on the Moon or a manned mission to Mars – anything to attract the next generation of scientific pioneers. Source: NASA
स्रोत :NASA

अपने चन्द्रयान-2 अन्तरिक्ष अभियान में भारत रूसी समस्थानिक उत्पादों (आइसाटोपों) का इस्तेमाल करेगा। 

रूसी राजकीय निगम रोसएटम की सहयोगी कम्पनी जेएससी आइसाटोप ने 13 फ़रवरी को यह जानकारी दी कि वह अहमदाबाद की भौतिकी अनुसन्धान प्रयोगशाला को रेडियोन्यूक्लाइड क्यूरियम-244 यानी सीएम-244 आइसाटोपों की सप्लाई करने जा रही है। 

सूत्रों के अनुसार, इन आइसाटोपों को चन्द्रयान-2  अभियान के दौरान अल्फ़ा प्रोटोन एक्स-रे स्पेक्ट्रोमीटर में लगाया जाएगा, जो चन्द्रमा की सतह का विश्लेषण करेगा। 

भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन द्वारा विकसित भू-समकालिक उपग्रह प्रक्षेपण यान चन्द्रयान-2  अभियान 2018 के  दौरान चन्द्रमा तक इस उपकरण को पहुँचाएगा।

+
फ़ेसबुक पर पसंद करें