पाठकों की दृष्टि से रूस दुनिया में दूसरे स्थान पर

3 अप्रैल 2017 ईगर रोज़िन
पहले नम्बर पर चीन है।
passenger reads a book
A passenger reads a book sitting on a bus, in Moscow, Russia स्रोत :AP

जर्मनी के अन्तरराष्ट्रीय मार्केटिंग-रिसर्च संस्थान की वेब-साइट पर कराए गए एक जन-सर्वेक्षण के अनुसार, रूस दुनिया के उन तीन प्रमुख देशों में से एक है, जहाँ की जनता को पढ़ना बहुत पसन्द है। पाठकों की दृष्टि से चीन पहले नम्बर पर है और तीसरा स्थान स्पेन को मिला है।

इस जन-सर्वेक्षण में भाग लेने वाले 59 प्रतिशत रूसी लोग लगभग रोज़ या कम से कम हफ़्ते में एक बार ज़रूर कोई न कोई किताब पढ़ते हैं। चीन में इस तरह के लोगों की संख्या 70 प्रतिशत है और स्पेन में 57 प्रतिशत है।

अन्तर्राष्ट्रीय जर्मन मार्केटिंग-रिसर्च संस्थान का कहना है कि अगर सर्वेक्षण से उन लोगों को हटा दिया जाए जो हफ़्ते में सिर्फ़ एक बार किताब पढ़ते है, तो इन तीन सबसे पढ़ाकू देशों में 30 प्रतिशत पाठक कम हो जाएँगे। तब भी इस सूची में चीन पहले स्थान पर ही होगा। तब दूसरा स्थान ब्रिटेन को मिलेगा और स्पेन तीसरे स्थान पर होगा।

यह  जन-सर्वेक्षण 17 देशों में किया गया था जिनमें अमरीका, ब्राज़ील, स्पेन, जर्मनी, फ़्राँस, जापान आदि शामिल थे। भारतीय लोगों के बीच यह सर्वेक्षण नहीं कराया गया।

सर्वेक्षण के अनुसार सबसे कम पढ़ने वाले देशों में से हालैण्ड और दक्षिण कोरिया का नाम आता हैं। इन देशों में 16 प्रतिशत लोग कभी किताबें नहीं पढ़ते।

+
फ़ेसबुक पर पसंद करें