रूसी हैलिकॉप्टर बुझा रहे हैं माउण्ट आबू की पहाड़ियों पर लगी आग

20 अप्रैल 2017 आनुष्का सेठी
भारत की वायुसेना माउण्ट आबू की पहाड़ियों पर लगी आग को बुझाने के लिए दो रूसी एमआई-17वी5 हैलिकॉप्टरों का इस्तेमाल कर रही है।
Mi-17V5
एमआई-17वी5 हैलिकॉप्टर। स्रोत :Courtesy India's Ministry of Defence

भारत के इण्टरनेट अख़बार डीएनए ने अपनी वेबसाइट पर जानकारी दी है कि गुजरात से सटे राजस्थान के सिरोही जिले के माउण्ट आबू की पहाड़ियों पर छितराई आग को बुझाने के लिए भारत की वायुसेना रूस में बने एमआई-17वी5 हैलिकॉप्टरों का इस्तेमाल कर रही है।

वायुसेना के पास उपस्थित दो अग्निशमन हैलिकॉप्टरों ने 73 बार नक्की झील से पानी भरके माउण्ट आबू के आसपास फैली अरावली के पहाड़ियों पर छिड़का, जहाँ जंगलों में आग लगी हुई थी। 

इसके बाद पर्यटक नगरी माउण्ट आबू की पहाड़ियों पर लगी आग पर काबू पा लिया गया। 

एमआई-17वी5 सैन्य परिवहन हैलिकॉप्टर एमआई-8 / 17 हैलिकॉप्टर-ग्रुप का ही एक विशेष मॉडल है, जिसका उत्पादन रूसी कम्पनी 'रस्सीसकिए विर्ताल्योति' की ही एक सहायक कम्पनी 'कज़ानस्किए विर्ताल्योति' (कज़ान हैलिकॉप्टर) करती है।  रूसी कम्पनी 'रस्सीसकिए विर्ताल्योति' हैलिकॉप्टर उत्पादन के क्षेत्र में दुनिया की एक प्रमुख कम्पनी मानी जाती है।

एमआई-17वी5  हैलिकॉप्टर दुनिया के आधुनिकतम हैलिकॉप्टरों में से एक है। इस मालवाहक हैलिकॉप्टर का निर्माण हैलिकॉप्टर के भीतर और बाहर मालों की लदाई करके उनकी ढुलाई करने के लिए किया गया है।

यह हैलिकॉप्टर सैन्य दस्तों और उनके हथियारों को भी उनकी मंज़िल तक पहुँचाता है। इसके अलावा आग बुझाने, गश्त लगाने, अभियान-दलों की सुरक्षा करने तथा खोज और बचाव कार्य करने में भी इस हैलिकॉप्टर का इस्तेमाल किया जा सकता है।

+
फ़ेसबुक पर पसंद करें