दो साल में रूसियों की वास्तविक आय 12,3 प्रतिशत कम हुई

11 जनवरी 2017 मरीना कारपवा
रूस में भी अब वेतन ब्राज़ील, भारत और बल्गारिया के समान हो गए हैं।
Money
स्रोत :Reuters

रूस की राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था और लोक प्रशासन अकादमी की एक रिपोर्ट के हवाले से रूसी समाचार समिति तास ने जानकारी दी है कि रूस में वर्ष 2014 में शुरू हुए आर्थिक संकट के बाद से गुज़रे दो सालों में रूसी जनता की वास्तविक आय में 12.3 प्रतिशत की कमी हुई है। रूस की राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था और लोक प्रशासन अकादमी के सामाजिक विश्लेषण और पूर्वानुमान संस्थान की रिपोर्ट में बताया गया है कि अक्तूबर 2014 से अक्तूबर 2016 तक रूसी नागरिकों की नकद आय 12.3 प्रतिशत कम हो गई है।

अन्तरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की क़ीमतों में हुई कमी और रूस पर लगाए गए पश्चिमी प्रतिबन्धों की वजह से रूस में मुद्रास्फीति अपने रिकार्ड स्तर पर पहुँच गई। पिछले छह वर्षों में महंगाई 12.9 प्रतिशत बढ़ गई। लेकिन 2016  के अन्त में रूस के केन्द्रीय बैंक के प्रयासों की बदौलत मुद्रास्फीति को घटाकर 5 प्रतिशत घटाना सम्भव हो गया।

रिपोर्ट में बताया गया है कि वास्तविक आय में कमी होने से जनता के बीच ग़रीबी बढ़ी है। जनवरी से सितम्बर 2016 के बीच देश की जनता के जीवनस्तर में 13.9 प्रतिशत की गिरावट हुई है। रिपोर्ट में बताया गया है कि 2012  से 2014 के बीच इसी दौर में सामने आए आँकड़ों से ये आँकड़े ज़्यादा हैं। 

रूस के सबसे बड़े बैंक — स्बेरबांक (बचत बैंक) के अनुसार, मई - 2016 में रूसी जनता की औसत आय गिरकर प्रतिमाह 500 डॉलर के लगभग रह गई, जो चीनी नागरिकों की औसत आय से कम है। स्बेरबांक की रिपोर्ट के अनुसार, इसका परिणाम यह हुआ कि वे कम्पनियाँ, जिनके कारख़ाने रूस में भी बने हुए हैं, अब रूस से अपने मालों का निर्यात करने लगी हैं या उनके मालों का निर्यात काफ़ी बढ़ गया है। 

रूस-भारत संवाद ने ब्रिक्स के सदस्य देशों और पश्चिमी और पूर्वी यूरोप के देशों की औसत आय के साथ रूसी नागरिकों की औसत आय की तुलना की है। यहाँ हम नुमबेओ डॉट कोम वेबसाइट पर प्रकाशित विभिन्न देशों में औसत आय का सूचकांक प्रकाशित कर रहे हैं।  

 
+
फ़ेसबुक पर पसंद करें