क्या आप अन्तरिक्ष में जाना चाहेंगे? नए अन्तरिक्ष यात्रियों की खोज

रूसी राजकीय अन्तरिक्ष संगठन ’रोसकोसमोस’ ने चाँद पर जाने के लिए नए अन्तरिक्ष यात्रियों की खोज शुरू कर दी है। नए अन्तरिक्ष यात्रियों को ’फ़ेडरेशन’ नामक नए अन्तरिक्ष यान में सवार होकर चन्द्रमा पर चढ़ाई करनी होगी।
Space
’फ़ेडरेशन' नामक नया अन्तरिक्ष यान ’सोयूज़’ और स्वचालित अन्तरिक्ष यान ’प्रोग्रेस’ की जगह लेगा। स्रोत :Igor Ageyenko/RIA Novosti

रूसी अन्तरिक्ष संगठन ने सूचना दी है कि इस साल के आख़िर तक ’खुले चयन’ के माध्यम से 6 से 8 नए लोगों को अन्तरिक्ष-यात्रा पर भेजने के लिए चुना जाएगा। ये सभी अन्तरिक्ष यात्री रूस में बनाए जा रहे ’फ़ेडरेशन’ नामक नए अन्तरिक्ष यान में सवार होने वाले पहले यात्री होंगे। इन्हीं नए अन्तरिक्ष यात्रियों को अन्तरिक्ष में काम कर रहे अन्तरिक्ष स्टेशन में काम करना होगा और इन्हीं को चाँद पर भी उतरना होगा।

अन्तरिक्ष यात्री के रूप में 35 वर्ष तक की उम्र वाले उन रूसी नागरिकों को चुना जाएगा, जिन्होंने उच्च तकनीकी शिक्षा या पायलट आदि के रूप में उड़ान प्रशिक्षण प्राप्त कर रखा है। चयन के दौरान विमानन और अन्तरिक्ष उद्योगों में काम करने वाले लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी। जो लोग अन्तरिक्ष यात्री बनना चाहते हैं, वे आने वाले चार महीनों के भीतर अपने-अपने दस्तावेज़ चयन समिति के पास विचार के लिए भेज सकते हैं। इसके बाद सभी उम्मीदवारों के प्रार्थना पत्रों पर विचार करके भावी अन्तरिक्ष यात्रियों का चयन किया जाएगा।

आजकल रूस के अन्तरिक्ष दल में 30 अन्तरिक्ष यात्री शामिल हैं, जिनमें से 14 व्यक्तियों ने अभी तक अन्तरिक्ष में उड़ान नहीं भरी है और उन्हें अन्तरिक्ष यात्रा करने का कोई अनुभव नहीं है। सोवियत और रूसी दोनों अन्तरिक्ष कालों को मिलाकर इस बार अन्तरिक्ष यात्रियों का चयन 17 वीं बार किया जाएगा और दूसरी बार यह खुला चयन होगा यानी अन्तरिक्ष यात्री बनने की इच्छा रखने वाला कोई भी व्यक्ति चयन समिति के नाम अपना प्रार्थना-पत्र भेज सकता है। इससे पहले 2012 में खुले चयन की यही प्रक्रिया अपनाई गई थी। जबकि पहले सिर्फ़ वायुसेना के पायलट और मिसाइल-अन्तरिक्ष उद्योग से सम्बन्धित लोग ही अन्तरिक्ष यात्री बन सकते थे।

’फ़ेडरेशन’ अन्तरिक्ष यान और रूस का चन्द्र अभियान

’फ़ेडरेशन' नामक नया अन्तरिक्ष यान ऐसा यान होगा, जिसका संचालन पायलट द्वारा किया जाएगा। यह अन्तरिक्ष यान पायलट संचालित अन्तरिक्ष यान ’सोयूज़’ और स्वचालित अन्तरिक्ष यान ’प्रोग्रेस’ की जगह लेगा। ’फ़ेडरेशन’ यान की चालक टीम में चार पायलट शामिल होंगे। इस नए अन्तरिक्ष यान की चालकविहीन पहली स्वचालित उड़ान 2021 में होगी। इसके दो साल बाद रूस के नए अन्तरिक्ष अड्डे ’वस्तोचनी’ से पहला चालक दल फ़ेडरेशन अन्तरिक्ष यान को लेकर उड़ान भरेगा।

रूस ने अपने चन्द्र अभियान का जो कार्यक्रम तैयार किया है, उसके अनुसार, 2019 से लेकर चन्द्रमा पर कम से कम पाँच बार अन्तरिक्ष यात्री उतरेंगे। इस तरह रूस 1976 में पूरे हुए अपने चन्द्र अभियान का नया दूसरा दौर शुरू करेगा। 

 

 

+
फ़ेसबुक पर पसंद करें