सेण्ट पीटर्सबर्ग की मैट्रो में धमाका आत्मघाती आतंकवादी ने किया

5 अप्रैल 2017 अलेग येगोरफ़
पुलिस से मिली जानकारी के आधार पर रूसी मीडिया में इस तरह के सूचनाएँ सामने आ रही हैं कि विगत 3 अप्रैल को साँक्त पितेरबुर्ग (सेण्ट पीटर्सबर्ग) की मैट्रो में हुए धमाके में किर्गीज़ियाई मूल के जिस आत्मघाती आतंकवादी का हाथ है, वह पहले मोटर मैकेनिक का काम करता था। जाँच-पड़ताल में यह बात सामने आई है कि इस विस्फोट की योजना शायद मस्क्वा (मास्को) में बनाई गई थी।
suspected bomber, 22-year-old Kyrgyz-born Russian citizen Akbarzhon Jalilov
पुलिस का अनुमान है कि किर्गीज़ियाई मूल के कबरजॉन ज़लीलफ़ ने सेण्ट पीटर्सबर्ग की मैट्रो में धमाका किया है। स्रोत :Russian Archives/Global Look Press

’गज़्येता डॉट रू’ द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, विगत 3 अप्रैल को साँक्त पितेरबुर्ग (सेण्ट पीटर्सबर्ग) की मैट्रो में हुए धमाके में किर्गीज़ियाई मूल के जिस आत्मघाती आतंकवादी का हाथ होना माना जा रहा है, उसका नाम अकबरजॉन ज़लीलफ़ था। रूसी खुफ़िया एजेंसियों ने इस सिलसिले में फ़िलहाल चुप्पी साध रखी है। लेकिन राष्ट्रीय सुरक्षा आयोग के प्रतिनिधि ने इस सूचना की पुष्टि की है। उन्होंने बताया — इस आतंकवादी कार्रवाई में जिस आदमी का हाथ होने का शक है, वह आदमी किर्गीज़ियाई मूल का रूसी नागरिक अकबरजॉन ज़लीलफ़ है, जिसका जन्म 1995 में किर्गीज़िस्तान के ओश नगर में हुआ था।

पिता के साथ रूस आया था

’गज़्येता डॉट रू’ के सूत्रों के अनुसार, हालाँकि जलीलफ़ का बचपन किर्गीज़िस्तान में ही गुजरा, लेकिन 2011 में रूस की नागरिकता पाने के बाद वह अपने पिता के साथ रूस आ गया था। जलीलफ़ के पिता ने रूस की सरकार से जलीलफ़ को रूस की नागरिकता देने का अनुरोध किया था। उसके पिता भी रूस के ही नागरिक हैं। 2011 में पिता और पुत्र दोनों साँक्त पितेरबुर्ग में आकर रहने लगे और मोटर मैकेनिक व मिस्र्त्री का काम करने लगे।

किर्गीज़िस्तान की पुलिस ने जलीलफ़ को कभी किसी अपराध में लिप्त नहीं पाया और उस  पर कभी कोई मुक़दमा नहीं चला था। अपने जीवन के अन्तिम छह साल उसने पितेरबुर्ग में ही बिताए। ’रेडियो मस्क्वा’ ने जलीलफ़ के एक परिचित व्यक्ति से बातचीत की, जो पहले कभी जलीलफ़ के साथ एक जापानी भोजनालय में काम करता था। उसने बताया कि तब जलीलफ़ ज़रा भी उग्र भावनाएँ रखने वाला या धार्मिक क़िस्म का आदमी नहीं लगता था।

मस्क्वा में योजना बनी

’गज़्येता डॉट रू’ के अनुसार, जाँच अधिकारियों का अन्दाज़ा है कि जलीलफ़ का सम्पर्क रूस में प्रतिबन्धित आतंकवादी गिरोह ’इस्लामी राज्य’ (आईएस) के कट्टरपन्थी उग्रवादियों के साथ हो गया था। अनुमान है कि इस आतंकवादी कार्रवाई की योजना मस्क्वा में बनाई गई थी और जलीलफ़ के सहयोगी मस्क्वा में हो सकते हैं।

पुलिस का मानना है कि किर्गीज़िस्तान में रह रहे अपने माता-पिता से मुलाक़ात करने के बाद जलीलफ़ सीधे पितेरबुर्ग की फ़्लाइट पकड़ने की जगह मस्क्वा के रास्ते पितेरबुर्ग लौटा था, इस तथ्य से इस बात की पुष्टि होती है। ’गज़्येता डॉट रू’ के सूत्र के अनुसार, फ़िलहाल इस सम्भावित आत्मघाती आतंकवादी जलीलफ़ के मित्रों-परिचितों और सम्पर्कों की जाँच की जा रही है।

 

+
फ़ेसबुक पर पसंद करें