Baikonur Shuysky accordion Before heading down into the park, spend a moment on the palace balcony to take in the view of the greenery and the Grand Cascade from above. If it's open, explore the grotto beneath the fountain to see the 18th-century engineering feats that helped pipe in water from springs in the surrounding Ropsha Hills and make the cascade's 64 water jets work in synchronicity. Ironstone A lightning over the Ostankino Blind photographer The history of Russian shipbuilding begins with the Admiralty Shipyard in Saint Petersburg. It was founded by Peter I (November 15, 1704), and as early as April 29, 1706, the first ship was lowered into the water. It was the first industrial enterprise. One-way tickets cost about 10 euros for adults and 6 euros for children aged 6-11.  // View of one of the 7 Stalin skyscrapers (the Seven Sisters), Bolshoy Ustinsky Bridge near the Kotelnicheskaya Embankment. The Sinara electric locomotive is designed to move freight trains along rail tracks. It can pull a train weighing up to 9,000 tons in areas with inclines of 8%.
अकार्डियन रूसी वाद्ययन्त्र कैसे बन गया?

बायकानूर अन्तरिक्ष अड्डा 62 साल का हुआ

माना जाता है कि बायकानूर अन्तरिक्ष अड्डा पवित्र भूमि पर बना हुआ है। दुनिया का यह सबसे बड़ा अन्तरिक्ष अड्डा, 2 जून 1955 को बनाया गया था। दुनिया के इतिहास में इस अन्तरिक्ष अड्डे से कुछ बेहद मशहूर अन्तरिक्ष उड़ानें शुरू हुई थीं। यहीं से यूरी गगारिन और वलिन्तीना तिरिशकोवा अन्तरिक्ष की अपनी महायात्राओं पर रवाना हुए थे।
  बरीस येगोरफ़
Baikonur
अधिक देखने के लिए नीचे जाएँ

ZUMA Press/Global Look Press

बायकानूर अन्तरिक्ष अड्डा दुनिया का पहला और सबसे बड़ा अन्तरिक्ष अड्डा है। बायकानूर दक्षिणी कज़ाख़स्तान की एक विशाल रेगिस्तानी स्तेपी (मैदान) में स्थित है। इसकी स्थापना 2 जून 1955 को की गई थी।
Baikonur

Roman Sokolov/RIA Novosti

रूस हर साल कज़ाख़स्तान को इस अन्तरिक्ष अड्डे के किराए के रूप में साढ़े 11 करोड़ डॉलर का भुगतान करता है। एक समझौते के तहत रूस ने बायकानूर को सन् 2050 तक के लिए किराए पर ले रखा है।
Baikonur

AP

उस भूमि को, जहाँ बायकानूर अन्तरिक्ष अड्डा बना हुआ है, प्राचीन ख़ानाबदोश कबीले पवित्र भूमि मानते थे। कहा जाता है कि यहीं पर 'पृथ्वी का नाभि-प्रदेश’ है।
Baikonur

Getty Images

जब बायकानूर अन्तरिक्ष अड्डे का निर्माण किया जा रहा था तो यहाँ पर किसी प्राचीन सभ्यता के अवशेष पाए गए थे। तब प्रमुख अन्तरिक्ष यान डिजाइनर सिर्गेय करल्योफ़ ने इसे अन्तरिक्ष विज्ञान के लिए एक अच्छा संकेत माना था।
Baikonur

ZUMA Press/Global Look Press

2 जून 1955 को इसी अन्तरिक्ष अड्डे से एक परीक्षण के रूप में दुनिया के पहले अन्तरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल आर-7 का प्रक्षेपण किया गया था।
Baikonur

Reuters

उसके बाद 4 अक्टूबर 1957 को बायकानूर से ही पृथ्वी के पहले कृत्रिम उपग्रह स्पूतनिक-1 का प्रक्षेपण किया गया था।
Baikonur

AP

फिर 12 अप्रैल 1961 को बायकानूर से पहले मानवयुक्त अन्तरिक्ष यान का प्रक्षेपण किया गया। इस यान में ही यूरी गगारिन बैठे हुए थे।
Baikonur

Reuters

सोवियत अन्तरिक्ष यात्री वलिन्तीना तिरिशकोवा ने 16 जून 1963 को ’वस्तोक-6’ अन्तरिक्ष-यान से अन्तरिक्ष के लिए उड़ान भरी और वे अन्तरिक्ष यात्रा करने वाली दुनिया की पहली महिला बन गईं।
Baikonur

Reuters

बीती आधी सदी में बायकानूर अन्तरिक्ष अड्डे से 1500 से ज़्यादा अन्तरिक्ष यानों और 100 से ज़्यादा अन्तरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइलों का प्रक्षेपण किया गया है।
Baikonur

AP

आजकल रूस के सुदूर-पूर्व में वस्तोचनी नामक एक नया अन्तरिक्ष अड्डा बनाया जा रहा है। रूस की योजना है कि भविष्य में बायकानूर की जगह वस्तोचनी का ही इस्तेमाल किया जाएगा।

और पढ़ें

+
फ़ेसबुक पर पसंद करें